अकेली लड़की और भारत?

Tripoto पर एक सवाल देखा, “I am not sure about travelling Solo in India. Can anyone suggest some safe destinations?” (मुझे भारत में अकेले सफ़र करने को लेकर शंका है। क्या कोई मुझे ऐसी घूमने की जगह बता सकता है जो सुरक्षित हो?) उस पर कुछ लोगों के जवाब थे कि, “भारत सुरक्षित नहीं  है, मैं खुद अपने लोगों के बीच सुरक्षित महसूस नहीं करती।” इस सच को नकारा नहीं जा सकता, लेकिन ये पूरा सच भी तो नहीं है। एक भारत वो भी तो है जहां अकेली लड़की को मौका नहीं बल्कि ज़िम्मेदारी समझकर उसकी रक्षा की जाती है।

अगर आप सोच रहे हैं कि ये बस कहने, सुनने या लिखने में ही अच्छा लगता है तो आइये आपको मिलवाती हूं भारत के इस दूसरे पहलू से। इस भारत से मेरी मुलाकात तब हुई, जब अकेली लड़की होते हुए मैंने भारत भ्रमण करने का इरादा बनाया, इस जिज्ञासा के साथ कि चलो अपने लोगों को जाने पहचाने।

मेरा पहला सोलो ट्रिप दिल्ली अमृतसर-

सच कहूं तो मैं बहुत डरी हुई थी पर जब मैं दिल्ली पहुंची और हुमायूं के मकबरे पर सुबह टहलने आई एक आंटी ने मुझे अकेला देखकर बड़ी उत्सुकता से पूछा, “अकेले आई हो?” और फिर शुरू हुआ बातों का सिलसिला जिसमें कुछ इतिहास भी था। मुझे बिल्कुल भी अकेलापन महसूस नहीं हुआ।

दिल्ली घूमने के बाद मैं अमृतसर पहुंची, सुबह 4 बजे गोल्डन टेम्पल जाना था तो सुबह 3:30 बजे मैंने ऑटो पकड़ा और गोल्डन टेम्पल पहुंची।गोल्डन टेम्पल से वाघा बॉर्डर के लिए भी ऑटो लिया, शर्मा जी का ऑटो था वो। खूब बातें हुई उनसे, उनके परिवार के बारे में, मेरे परिवार के बारे में। वो ये सोचकर हैरान हो रहे थे कि आखिर मेरे घरवालों ने मुझे अकेले इतनी दूर कैसे भेज दिया? उन्होंने कहा कि, “दीदी मेरी 3 बहनें हैं, पर ना कभी वो हिम्मत कर पायी अकेले कहीं जाने की और ना कभी हमारी हिम्मत हुई उन्हें अकेले भेजने की।” मुझे कोई मंदिर देखना होता तो वो खुद मुझे दरवाज़े तक छोड़कर आते और कहते, “दीदी हम हैं आपके साथ, कोई परेशानी न होने देंगे।”

फिर वाघा बॉर्डर पर मुलाकात हुई कोलकाता से आए एक परिवार से और मैं आज भी उनके साथ संपर्क में हूं। जब कोलकाता जाने का प्लान बना और दादा-भाभी को खबर दी तो उनकी ख़ुशी का तो पूछिए ही मत। वो बोले, “आपको हमारे घर पर ही रहना है, अच्छा आप चिकन और फिश खाते है ना?”

IMG_0176

Humayun Tomb Delhi

मेरी वाराणसी से रीवा की राइड

रीवा जाते हुए मैंने इलाहबाद का रास्ता लिया, इलाहबाद तक तो सब ठीक रहा पर मुश्किल शुरू हुई उसके बाद। रास्ता बहुत ख़राब था, शाम के 6 बज चुके थे, 130 कि.मी. जाना और बाकी था और मेरी सवारी थी एक स्कूटर। रोड का काम चालू था तो सफ़ेद मिट्टी में गाड़ी फंसी जा रही थी, स्कूटर चलने में भी बहुत मुश्किल हो रही थी। रास्ता सही है या गलत समझ नहीं आ रहा था, तभी सामने एक रीवा के नंबर प्लेट की बाइक दिखी। मैं समझ गई कि ये भी रीवा जा रहे हैं और मैं हो ली उनके पीछे-पीछे। कुछ दूर तक तो उनके पीछे चली फिर अचानक से उन्होंने अपनी बाइक दूसरे रास्ते पर मोड़ ली।

मैंने अब एक जगह रुककर लोगों से पूछा तो मुझे बताया गया कि बिलकुल सीधा-सीधा जाना है। रात हो चुकी थी, सीधे चलते-चलते मैं ऐसी जगह जा फंसी जहां रास्ता ही ख़तम हो गया था। रास्ते पर कोई लाइट नहीं और किसी से पूछ सकूं ऐसा कोई इंसान भी नहीं दिख रहा था। डरकर बस रोना ही बाकी था कि पीछे से आवाज़ आयी, “अरे आप तो गलत रास्ते आ गयी, मैंने वहां से गाडी मोड़ ली थी क्यूंकि वो रास्ता अच्छा था। मुझे लगा आप पीछे-पीछे आ जाएंगी, आप नहीं दिखी तो मैं आ गया आपको देखने। अब साथ ही चलिएगा।” ये वही बाइक वाले जनाब थे, 100 km का सफर हम दोनों ने साथ में तय किया उनकी बाइक और मेरा स्कूटर। रास्ता ऐसा सुनसान कि कोई कुछ कर ले तो खबर भी ना मिले। बीच में बारिश भी हुई, हम एक ढाबे पर रुके और रात 10 बजे हम रीवा पहुंचे बिलकुल सही सलामत। वहां से मैं अपने होटल और वो अपने घर, हम आज भी हम संपर्क में हैं।

IMAG0054.jpg

मेरी कन्याकुमारी राइड

कन्याकुमारी से कुछ 117 km पहले मेरा स्कूटर एक फैक्ट्री के सामने खराब हो गया, वो स्टार्ट तो हो रहा था पर आगे नहीं बढ़ रहा था। फैक्ट्री का गार्ड समझ चुका था कि कोई परेशानी ज़रुर है। वो देखने आए पर दिक्कत ये कि ना उन्हें हिंदी समझ आ रही थी और ना इंग्लिश। उन्होंने और दो लोगों को बुलाया लेकिन ना वो गाड़ी की परेशानी समझ पा रहे थे और ना मेरी भाषा।

ऐसा करते-करते लोग जमा होते चले गए और फिर आये उस फैक्ट्री के मेंटेनेंस मैनेजर, उन्हें हिंदी-इंग्लिश समझ तो आ रही थी, पर गाड़ी की परेशानी नहीं। उन्होंने अपने पहचान के एक मैकेनिक को कॉल लगाया और आने के लिए कहा। कॉल कट हुआ ही था कि उनकी कंपनी का एक वर्कर आए जो मेरी बात समझ पा रहे थे और उन्होंने गाड़ी की प्रॉब्लम भी पता लगा ली। उन्होंने तुरंत मैकेनिक को कॉल करके परेशानी बताई। जब ये सब लोग मिलके मेरी परेशानी का हल ढूंढ रहे थे तो मैं बैठकर कॉफ़ी पी रही थी। कुछ  देर बाद मैकेनिक आया मैंटेनस मैनेजर उनके साथ गाड़ी को धक्का देकर लेकर गए और मुझे कार से वर्कशॉप तक छोड़ा गया। जब तक गाड़ी ठीक नहीं हुई वो मेरे साथ रहे। तिरुनेलवेल्ली तक गाड़ी उन्होंने खुद चलाई और वहां से 90 km दूर कन्याकुमारी का सफर रात को 11:30 बजे मैंने पूरा किया।

13002419_1304449819569286_360713377720612708_o.jpg

Swami Vivekanand point Kanyakumari

अनुभव ऐसे और भी हैं, कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक। बिना जान-पहचान किसी ने बस यूं ही रोटी खिला दी तो किसी ने चाय पिला दी। मेरा फ़ोन बंद पड़ा तो कॉल के लिए मदद कर दी। एक किताब लिख दी जाए अनुभव इतने हैं, लिखूंगी उनके बारे में भी पर एक-एक कर। आज जितने अनुभव लिखे हैं उम्मीद है उसमे आपको भारत के दूसरे पहलू की झलकियां ज़रूर दिखी होंगी।

आप अगर मुझसे भारत के बारे में पूछेंगे तो मैं बस यही कहूंगी हां थोड़ा बुरा तो है पर उससे कहीं ज़्यादा खूबसूरत भी है। थोड़ा नज़र बदलकर देखिए और एक बार हिम्मत करके देखिए। टीवी, पेपर, सोशल मीडिया इसके परे भी एक सच है जिसे आप खुद अपने अनुभवों से ही जान और समझ सकते हैं। हर अनुभव अच्छा होगा ज़रूरी नहीं, पर उसके डर से घर से बाहर निकलना तो छोड़ा नहीं जा सकता। लड़ना नहीं सीखेंगें तो देश बदलेंगे कैसे? जीतेंगे कैसे? आपकी कमज़ोरी ही किसी और की ताकत बनती है, आप किसे ताकतवर देखना चाहते हैं? तय आपको करना होगा।

Advertisements

कालू

इनसे मिलिए ये है कालू. कालू से हम मिले कळसूबाई पीक  की नाईट ट्रेक पर कळसूबाई बोले तो महाराष्ट्र का एवेरेस्ट. हम हमारे गाइड के साथ निकले पीक के लिए और ये जनाब हमारे पीछे पीछे, थे ये गाइड के पेहचान वाले ही. 15 min ही हुए थे हमे शुरुवात किये हुए की गाइड को याद आया वो अपना फ़ोन शायद गाओं में ही भूल गए है. हमने कहा उनसे आप जाइये आपका फ़ोन लेकर आइये हम यही रुकते है. गाइड तो चले गए हमे लगा था कालू जनाब भी चले जायेंगे, पर नहीं ये बैठे रहे हमारे साथ हमारे बाजू में ही जब तक गाइड आये नहीं. गाइड आने के बाद शुरू की हमने फिर आगे की चढाई और कालू जी हमारे साथ साथ. हमे तो हिम्मत क्या ही देते ये खुद ही इतने डरपोक की थोड़ी भी आवाज़ हुई नहीं की हमारे पैरो के पास आ जाते. कालू ने तो कई बार हमे ही आजु बाजु छान बिन करने को मजबूर कर दिया था की कही कोई है तो नहीं. था कोई नहीं ये युही होशियार बने जा रहे थे. कुछ सुबह 3 बजे हम कळसूबाई टॉप से कुछ 10 min पेहले कुछ हॉटेल्स जाहा रात को रुका जा सकता है वहा पोहोचे. वाहा हमारे गाइड का भी एक होटल था जहा उन्होंने हमारे सोने का इंतज़ाम कर दिया. सुबह कुछ 6 बजे हम टॉप पर जाने के लिए निकले , इस बार गाइड साथ नहीं आने वाले थे क्युकी उन्हें नाश्ते चाय की तैयारी करनी थी ट्रेक के लिए आये और आने वाले बाकि लोगो के लिए भी. Saturday Sunday होने की वजह से काफी लोग ट्रेक के लिए आते है  तब  ऑफ सीजन में भी बिज़नेस इनका अच्छा  हो  जाता है. गाइड नहीं भी साथ आये तो भी कालू जनाब हमारे साथ साथ कळसूबाई टॉप चढ़े, जब तक हम वाहा रुके ये भी हमारे साथ और निचे उतरना चालू किया तो  भी हमारे पीछे पीछे ही. ट्रेक के लिए आये हुए एक ग्रुप के किसी मेमबर ने कमेंट भी किया ये आपके साथ साथ  आया है,हर किसीके साथ आते नहीं ये.

घर पर  कोई पालतू जानवर कभी रहा नहीं तो लोग जो इतना कहते है  कुत्ते आपके सबसे अच्छे दोस्त होते है, निष्ठावान होते है ये सब कभी महसूस करने मिला ही नहीं. फिर कालू से मिलकर समझा की लोग जो भी केहते है सच्च ही है. हमने तो कालू को एक बिस्किट भी नहीं खिलाया था,फिर भी वो हमारे साथ रहा. हर ट्रिप में अलग अलग लोगो से रिश्ते बनाये, वो रिश्ते बने उन लोगो से बात करके कुछ अपने बारे में बताकर कुछ उनके बारे में जानकार और फिर इस ट्रिप में बना ये एक अनोखा रिश्ता सारे रिश्तो से अलग, जहा ना कुछ बताने की जरुरत पड़ी ना कुछ जान ने की. उम्मीद है जब कभी अगली बार कळसूबाई गयी कालू इसी तरह हमारे साथ चलेगा.

IMG_3580

Kaalu