निष्ठा और मुस्कान


👇इनसे मिलिए ये है रामलाल जी.आप पूछेंगे ये कौन तो रामलाल जी हमे रोज़ हमारी शाखा में चाय लाकर देते है.हमारी शाखा से आस पास ही है इनकी दुकान. अब आप पूछेंगे तो इसमें खास क्या, तो खास है इनकी मुस्कान और इनकी निष्ठा.

IMG_20180907_181904

मार्केटिंग में होने की वजह से बैंक की अलग अलग शाखा में जाना होता है. आज जाना हुआ इतवारी शाखा में. सुबह 10.30 बजे ऑफिस जाते हुए तो कोई बारिश नही थी पर दोपहर को शुरू हुई जमके बारिश. बाहर बारिश हो तो सबसे पहले याद आती है चाय की और पकोड़ो की भी,अब पकोड़ो का ऑफिस में सोचो और मिल जाये थोड़ा मुश्किल है पर चाय, वो तो मिल ही सकती है. चाय का ख्याल मन मे आया ही था कि सामने थे रामलाल जी. मार्केटिंग में होने की वजह से काम घूमने का है मेरा पर बारिश में रेनकोट पहनकर बाहर जाना थोड़ा जान पर ही आता है. पर रामलाल जी बारिश में भी बढ़िया रेनकोट पहने, हाथ मे केतली लिए और कुछ कप लिए शाखा में आए. चेहरे पर कोई चीड़ चीड़ या बारिश में जो थोड़ी कीच कीच होती है वो भी नही बढ़िया मुस्कुराते हुए जिनको जिनको चाहिए वो चाय दे रहे थे.

IMG_20180907_181902

बड़ा ही मजा आ रहा था मुझे उनको देखकर एक तो दिख बढ़े क्यूट रहे थे वो उसपे ना उनकी मुस्कान बड़ी आकर्षित कर रही थी मुझे. मतलब भाई बारिश हो या कुछ मैं तो अपनी ड्यूटी ईमानदारी से निभाऊंगा. जो मेरा काम है वो करूँगा. अब आप बोलेंगे काम तो करेंगे ही पैसे कमाते है वो इसके. बात तो सही है पैसे कमाते है पर कितने ऐसे लोग है जो इस मुस्कान के साथ अपना काम करते है. मैं तो कितनी ही बार दिन भर में अपनी नौकरी को गालियां देती हूं जबकि मेरे सपने उसी से पूरे हो रहे है और हा पैसे भी बड़े अच्छे मिल जाते है. पर फिर भी किट किट कभी ये बोलकर “यार इतनी धूप में भी बाहर घूमना पड़ता है”, “यार मौसम कितना अच्छा है और मैं ऑफीस में बैठी हु”,”इस बारिश में कौन बाहर जाए”. रोज़ कोई नया बहाना ढूंढ ही लेती हूं और फिर मिलते है रामलाल जी जैसे लोग जो याद दिलाते है खुशी की,ईमानदारी की,निष्ठा की.

दोपहर के बाद से बारिश रुकी नही थी तो रामलाल जी शाम को फिर चाय देने आए फिर वही रेनकोट वही केतली और उसी मुस्कान के साथ. अच्छा लगता है जब दिनभर में कुछ ऐसे लोगो से मिल लेते है, इन्हें देखकर दिन बन गया मेरा.

Advertisements

One thought on “निष्ठा और मुस्कान

  1. बहुत बढ़िया। सच है कि जीवन में प्रेरणा हमें किसी से भी मिल सकती है, और सच है कि बात पैसे की नहीं निष्ठा की होती है, पैसा तो सभी कमाते है।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s