देवताओं की अदालत

आज आपको मिलाते हैं उपाध्याय जी से. कभी बढ़े पत्रकार थे, आज भी हैं पर आजकल सोशल मीडिया पर ज्यादा लिखते हैं. इनसे हमारी पहचान ऐसी की पिछले साल जब जब हम ( मैं और निकेश) चित्रकोट राइड पर थे तब केशकाल में इनकी छोटी सी टपरी साथ ही वहीं पर दुकान है उनकी, वहांContinue reading “देवताओं की अदालत”